Shruti Sharma IAS – एक सफल और सुनियोजित प्रयास

यूपीएससी भारत सरकार में विभिन्न समूह ‘ए’ पदों पर भर्ती के लिए कई प्रतियोगी परीक्षाएं आयोजित करता है जिसके लिए भारत के कई युवा प्रयास करते है जिनमें सिविल सेवा परीक्षा, भारतीय प्रशासनिक सेवा परीक्षा, भारतीय विदेश सेवा परीक्षा, भारतीय पुलिस सेवा परीक्षा और भारतीय वन सेवा परीक्षा शामिल हैं। इसी यूपीएससी के तहत IAS (आईएएस) ऑफिसर का सिलेक्शन होता है; जिसके तहत आईएएस श्रुति शर्मा का भी सिलेक्शन हुआ था। इस आर्टिकल के माध्यम से हम Shruti Sharma IAS के बारे में जानेंगे; उनकी जीवनी, जन्म स्थली व जन्म तिथि जैसे जानकारी, अर्जित की गई शिक्षा, व् पारिवारिक पृष्ठ्भूमि जैसी जानकारी; जो आपको काफी रूचि भरा और संघर्ष भरा जीवन लग सकता है तो इस Shruti Sharma IAS के इस सफल प्रयास को पड़े और यदि IAS बनने के दिशा में आप सोच रहे है तो इसे अपने जीवन में अमल करे।

यूपीएससी टॉप करने वाली श्रुति शर्मा की जीवनी

2022 में, संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) ने अपने परिणामो की घोषणा की थी। 30 मई, 2022 को संघ लोक सेवा आयोग की आधिकारिक वेबसाइट ने परीक्षा के अंतिम परिणाम जारी किए और इस परिणाम की सूचि में सबसे प्रथम स्थान उत्तर प्रदेश की की बेटी ने प्राप्त किया जिनका सुभ नाम श्रुति शर्मा है और उनके इस सफल प्रयास के बाद केवल उनका या उनके परिवार का ही नाम रोशन नहीं हुआ; उनके गांव, राज्य व् देश का नाम भी रोशन हुआ।

Shruti Sharma IAS  का जीवन परिचय

नामश्रुति शर्मा 
जन्म स्थानबिजनौर, उत्तर प्रदेश
शिक्षा प्राप्तक स्थानदिल्ली
जन्मतिथिJuly 5, 1994
उम्र29 (as of 2023)
हाइट5 फ़ीट 3 इंच
गृहनगरधमपुर, बिजनौर, उत्तर प्रदेश
कॉलेजसेंट स्टीफेंस कॉलेज दिल्ली, दिल्ली स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स न्यू दिल्ली
शैक्षिक योग्यताग्रेजुएट (हिस्ट्री) सेंट स्टीफेंस कॉलेज दिल्ली, M.A समाजशास्त्र (दिल्ली स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स न्यू दिल्ली )
विषयHistory (Hons), M.A
वैवाहिक स्थितिअविवाहित
भाषाहिंदी, इंग्लिश
शौकनई चीजें सीखना, किताबें पढ़ना, नई संस्कृति को जानना, फिल्म देखना आदि
धर्महिन्दू धर्म
राष्ट्रीयताभारतीय
UPSC 2021 में स्थान1st रैंक, पुरे भारत में पहला स्थान
UPSC रोल नंबर0803237
UPSC Attempt2nd
UPSC बैच2021

जन्मस्थली से शिक्षा अर्जित करने तक व् परिवार का सहयोग

श्रुति शर्मा का जन्म 1997 में धामपुर, बिजनौर, उत्तर प्रदेश में हुआ था। उनके पिता सुनील दत्त शर्मा हैं, जो पेशे से आर्किटेक्ट और इंजीनियर हैं। पेशे से प्रमाणित शिक्षिका रचना शर्मा, श्रुति शर्मा की माँ है। इसके अतिरिक्त, इसके अतिरिक्त श्रुति शर्मा का एक भाई है जो पेशेवर रूप से क्रिकेट खेलता है और उत्तर प्रदेश अंडर -25 टीम का सदस्य है।

श्रुति शर्मा ने दिल्ली के सेंट स्टीफन कॉलेज से इतिहास ऑनर्स की डिग्री हासिल की। इसके बाद उन्होंने एम.ए. की पढ़ाई की। वह समाजशास्त्र का अध्ययन करने के लिए नई दिल्ली में दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स गए और एम.ए. की उपाधि प्राप्त की।

अपने एक इंटरव्यू में श्रुति शर्मा ने बताया कि वह इतिहास ऑनर्स की छात्रा हैं। उन्होंने अपनी सिविल सेवा परीक्षा की पढ़ाई के लिए जामिया मिलिया इस्लामिया आवासीय कोचिंग अकादमी में दाखिला लिया था और वही से उन्होंने सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी की।

श्रुति शर्मा की सेल्फ स्टडी और सफल प्रयास

Shruti Sharma IAS ने आज यह पद व् मान-सम्मान अपनी कड़ी मेहनत और कठिन संघर्ष से हासिल किया है वह संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) की परीक्षा में दूसरी बार में सफल हुई थी। मीडिया सूत्रों के मुताबिक, श्रुति शर्मा ने कहा कि उन्होंने पहली यूपीएससी परीक्षा अंग्रेजी के बजाय हिंदी में देने का फैसला किया ताकि वह हिंदी में लिखने से अधिक अंक प्राप्त कर सके, उन्हें एक साक्षात्कार के लिए एक अंक कम मिला जिस वजह से उनका सिलेक्शन नहीं हो पाया, बाद उन्होंने पुनः प्रयास किया और अपनी कड़ी मेहनत से यह मुकाम हासिल किया।

अपने एक इंटरव्यू के दौरान Shruti Sharma IAS ने कहा, ”इस परीक्षा का सिलेबस बहुत बड़ा है, लेकिन मैं पढ़ाई करते समय कभी समय नहीं देखती थी और जहां तक संभव हो सके पढ़ने की कोशिश करती थी” उन्होंने यह भी कहा कि मैं अपनी अध्ययन सामग्री न्यूनतम रखता थी जिस वजह से मुझे अध्यन करने में ज्यादा दिक्कत नहीं होती थी।

श्रुति शर्मा के बारे में कुछ रोचक तथ्य यहां दिए गए हैं

श्रुति शर्मा एक भारतीय महिला हैं जिन्होंने 2021 यूपीएससी परीक्षा में अखिल भारतीय स्तर पर सर्वोच्च रैंक प्राप्त की।

श्रुति शर्मा अपने पूरे स्कूल के दिनों में एक छात्र संगठन की सदस्य थीं। अपने स्कूल के दिनों में, वह सांस्कृतिक मामलों के सचिव थे।

श्रुति शर्मा यूपीएससी परीक्षा में अपनी सफलता का श्रेय जामिया मिलिया में अपने कोचिंग को दिया हैं, जहां उन्होंने परीक्षा के लिए अध्ययन किया था।

मीडिया सूत्रों के मुताबिक, श्रुति शर्मा की नानी ने बताया कि वह अपनी बेटी यानी श्रुति की मां को आईएएस ऑफिसर बनाना चाहती थीं, लेकिन उस समय कोई विशेष सुविधा न हो पाने के कारन और कोचिंग क्लासेज दूर होने के कारन उन्होंने यह पड़े छोड़ दी।

IAS Shruti Sharma अपने कॉलेज के दिनों में कई प्रकार के टूर्नामेंटों में प्रतिस्पर्धा करती थीं और हमेशा उच्च अंक प्राप्त करती थीं, जिससे उनके आत्मविश्वास को बढ़ाने में मदद मिली।

श्रुति ने कथित तौर पर स्वीकार किया है कि उन्होंने उर्दू सीखने का प्रयास किया था।  

और भी पढ़े:-

Leave a Comment