sarvanam-सर्वनाम से आप क्या समझते है?

 sarvanam in hindo – सर्वनाम से आप क्या समझते है

हिन्दी भारत मे बोलने जाने वाली प्राथमिक भाषा हैँ, ज्यादातर भारतीय Hindi लिखते और बोलते हैँ ऐसे मे इसे शुद्ध रूप से बोलने तथा लिखने के लिए Hindi vyakaran का अध्ययन करना अतिआवश्यक हैँ इसलिए  इस पोस्ट मे हम  sarvanam in hindi के बारे मे विस्तार से जानेंगे  जो sarvanam in hindi grammar का एक हिस्सा हैँ
 


sarvanam in hindi
Sarvanam in hindi

 

 

Sarvanam in hindi

संज्ञा के स्थान पर परयुक्त होने वाले शब्दों को sarvanam (सर्वनाम) कहते है.

sarvanam ki paribhasha 

 

सर्व का अर्थ है सबका यानी जो शब्द सब नामों (संज्ञाओं) के स्थान पर प्रयुक्त हो सकते हैं,  sarvanam (सर्वनाम) कहलाते हैं । दूसरे शब्दों में,जैसे- मैं, हम, तू, तुम, वह, यह, आप, कौन, कोई, जो इत्यादि ।

sarvanam ke bhed – (सर्वनाम के भेद)

 
  1. पुरुषवाचक सर्वनाम
  2. निश्चयवाचक सर्वनाम
  3. अनिश्चयवाचक सर्वनाम
  4. संबंधवाचक सर्वनाम
  5. प्रश्नवाचक सर्वनाम
  6. निजवाचक सर्वनाम

1. पुरुषवाचक सर्वनाम

 

जिस sarvanam  का प्रयोग वक्ता या लेखक स्वयं अपने लिए अथवा श्रोता या पाठक के लिए अथवा किसी अन्य के लिए करता है वह पुरुषवाचक sarvanam  सर्वनाम कहलाता है ।

पुरुषवाचक सर्वनाम तीन प्रकार के होते हैं-

  1. उत्तम पुरुषवाचक सर्वनाम   – मैं, हम, मुझे, हमारा
  2. मध्यम पुरुषवाचक सर्वनाम  – तू, तुम, तुझे, तुम्हारा
  3. अन्य पुरुषवाचक सर्वनाम     – वह, वे, उसने, यह, ये, इसने

 

2. निश्चयवाचक सर्वनाम

 

जो sarvanam सर्वनाम किसी व्यक्ति वस्तु इत्यादि की ओर निश्चयपूर्वक संकेत करें वे निश्चयवाचक sarvanam (सर्वनाम) कहलाते हैं ।
इनमें- यह, वह, वे- सर्वनाम शब्द किसी विशेष व्यक्ति आदि का निश्चयपूर्वक बोध करा रहे हैं, अतः ये निश्चयवाचक सर्वनाम है ।

3. अनिश्चयवाचक सर्वनाम

 

जिस sarvanam (सर्वनाम) शब्द के द्वारा किसी निश्चित व्यक्ति अथवा वस्तु का बोध न हो, वे अनिश्चयवाचक sarvanam  (सर्वनाम) कहलाते हैं ।
इनमें कोई और कुछ सर्वनाम शब्दों से किसी विशेष व्यक्ति अथवा वस्तु का निश्चय नहीं हो रहा है । अतः ऐसे शब्द अनिश्चयवाचक sarvanam  (सर्वनाम) कहलाते हैं ।

4. संबंधवाचक सर्वनाम

 

परस्पर एक-दूसरी बात का संबंध बतलाने के लिए जिन सर्वनामों का प्रयोग होता है उन्हें संबंधवाचक sarvanam  (सर्वनाम) कहते हैं ।

इनमें जो, वह, जिसकी, उसकी, जैसा, वैसा -ये दो-दो शब्द परस्पर संबंध का बोध करा रहे हैं । ऐसे शब्द संबंधवाचक 
इनमें जो, वह, जिसकी, उसकी, जैसा, वैसा -ये दो-दो शब्द परस्पर संबंध का बोध करा रहे हैं । ऐसे शब्द संबंधवाचक sarvanam  (सर्वनाम) कहलाते हैं।

5. प्रश्नवाचक  सर्वनाम

 

जो सर्वनाम संज्ञा शब्दों के स्थान पर तो आते ही है, किन्तु वाक्य को प्रश्नवाचक भी बनाते हैं वे प्रश्नवाचक सर्वनाम कहलाते हैं ।
जैसे- क्या, कौन, कैसे इत्यादि ।

6. निजवाचक सर्वनाम

जहाँ वक्ता या लेखक अपने लिए आप अथवा अपने आप शब्द का प्रयोग हो वहाँ निजवाचक सर्वनाम होता है ।
जैसे- मैं तो आप ही आता था । मैं अपने आप काम कर लूंगा ।

   

 conclusion

प्रिय दोस्तों , मै उम्मीद  करता हूँ की आपको हमारी पोस्ट “sarvanam in hindi” जरूर पसंद आयी  होंगी । इसके आलावा sarvanam ke bhed sarvanam ki paribhasha,  आदि का अध्ययन किया! hindi केटेगरी मे हम हिंदीं के सभी टॉपिक को कवर करने की कौशिश करते हैँ इसलिए अगर आपको यह पोस्ट कुछ हद तक भी फायदेमंद  लगी  हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करे। मै  हमेशा यही कौशिश करता हू  की “अपने readers को पोस्ट  की संपूर्ण जानकारी आसान और विस्तृत रूप में प्रदान  कर सकूँ । यदि आपको और अधिक जानकारी की आवश्यकता है तो आप यहा क्लिक कर पढ़ सकते है अगर आपको कोई भी उलझन हो तो निचे कमेंट कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी. यदि आप हमसे सम्पर्क करना चाहते है या आपके पास कोई सुझाव है तो आप हमसे ईमेल के जरिये संपर्क   कर सकते है । हम आपके सुझाव का इंतजार रहेगा, शुक्रिया 😊
MUHAMMED HASHIM

Leave a Comment

six + 19 =