Jharkhand Fasal Rahat Yojana: किसानों के लिए एक कदम आगे

भारतीय कृषि व्यवसाय का मूल आधार है किसान। लेकिन विभिन्न प्राकृतिक आपदाएं और अनियंत्रित किसानों के समस्याओं के कारण, किसानों को बड़ी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। भारत के प्रदेश झारखंड भी किसानों के लिए इसी तरह की चुनौतियों का सामना कर रहा है। इस समस्याओं के सामना करने के लिए, झारखंड सरकार ने Jharkhand Fasal Rahat Yojana की शुरुआत की है। इस लेख में हम Jharkhand Fasal Rahat Yojana पर चर्चा करेंगे, जिसमें हम योजना के लक्ष्य, उपकरण, लाभ और समाप्ति के बारे में जानेंगे।

Jharkhand Fasal Rahat Yojana Registration – Overview

योजना का नामराज्य फसल राहत योजनाकिसान कर्ज माफ़ी योजना
संबधित राज्यझारखण्ड
शुरू की गयीमुख्यमंत्री श्री हेमंत सोरेन जी द्वारा
मुख्य लाभसभी किसानों का 50,000 रुपये तक का कृषि ऋण माफ
लाभार्थीराज्य के सभी लघु व सीमांत किसान भाई
उद्देश्यफसल नुकसान पर आर्थिक सहायता प्रदान करना
वित्तीय वर्ष2023-2024
आधिकारिक वेबसाइटhttps://jrfry.jharkhand.gov.in/
लेख श्रेणीराज्य सरकार किसान कल्याण योजना
बजटकृषि ऋण माफी के लिए 2,000 करोड़ रुपये

Jharkhand Fasal Rahat Yojana kya hai 

वित्तीय और तकनीकी सहायता प्रदान करने के लिए Jharkhand Fasal Rahat Yojana झारखंड राज्य सरकार द्वारा शुरू किया गया। इस कार्यक्रम का प्राथमिक लक्ष्य झारखंड राज्य के किसानों को विभिन्न सुविधाओं और कृषि संसाधनों तक पहुंच प्रदान करके उनकी आय को चौगुना करना है। इस रणनीति की सहायता से किसान अपनी कृषि संबंधी समस्याओं का शीघ्र समाधान कर सकते हैं। उन्नत कृषि उपकरण वितरित करने से किसानों के कृषि उत्पादन में वृद्धि होती है। किसानों को सिंचाई प्रणालियों, नहरों और पाइपलाइनों के साथ-साथ सिंचाई उपकरणों जैसी आवश्यक सुविधाओं तक पहुंच प्रदान की जाती है। इससे उन्हें समय पर पानी मिलता है और उनकी खेती भी बेहतर होती है। इसके साथ ही, किसान बीमा योजना किसानों को फसल बीमा कार्यक्रमों में नामांकन के लिए प्रोत्साहित करती है ताकि उन्हें होने वाले वित्तीय नुकसान से बचाया जा सके।

झारखण्ड राज्य फसल राहत योजना 2023-24 का उद्देश्य

सरकार की झारखंड कृषि ऋण माफी योजना 2023 का नाम बदलकर राज्य फसल राहत योजना कर दिया गया है। राज्य विधानसभा में प्रस्तुत झारखंड बजट 2021-22 की अनुमानित लागत रु. 86,370 करोड़ है। इस बजट का राजस्व और व्यय लगभग 73,316 करोड़ रुपये होने का अनुमान लगाया गया था, और पूंजी परिव्यय 13,054 करोड़ रुपये के करीब होने का अनुमान लगाया गया था। झारखंड राज्य की पूरी आबादी कुछ हद तक – लगभग 75% – कृषि और संबंधित उद्योगों पर निर्भर है।

राज्य के किसानों के लिए कृषि ऋण माफी योजना को झारखंड सरकार द्वारा पुनर्जीवित किया गया है क्योंकि, जैसा कि आप जानते हैं, यह कृषि क्षेत्र से जुड़े लोगों के विकास को बढ़ावा देने के लिए तत्परता से काम करती है। झारखंड फसल राहत योजना का प्राथमिक लक्ष्य किसानों को प्राकृतिक आपदाओं के परिणामस्वरूप नुकसान होने की स्थिति में आर्थिक रूप से सहायता करता है। फसल राहत योजना से किसानों के राजस्व में वृद्धि होगी। किसान खेती में कड़ी मेहनत करके अपनी उपज को बढ़ावा देने में सक्षम होंगे क्योंकि वे वह अब सशक्त महसूस करेंगे और अब उनको फसल के नुकसान की भी चिंता नहीं करनी पड़ेगी।

Jharkhand Fasal Rahat Yojana के प्रमुख लाभ

झारखंड फसल राहत योजना के कई लाभ हैं जो किसानों के लिए बहुत उपयोगी हैं।

  • प्राकृतिक आपदाओं के कारण होने वाले फसल के नुकसान के लिए किसानों को वित्तीय सहायता दी जएगी।
  • फसल हानि को कम करने के लिए तकनीकी और वैज्ञानिक संचार प्रदान किया जाता है।
  • किसानों को विपणन और कृषि विपणन में प्रशिक्षण देना।
  • अत्याधुनिक सिंचाई और जल-बचत तकनीकों का प्रसार करना।
  • किसानों को फसल के नुकसान के बाद बीमा विकल्प प्रदान करना और कृषि बीमा कार्यक्रमों के बारे में उनकी जागरूकता बढ़ाना।

Jharkhand Fasal Rahat Yojana जरूरी कागजात

किसी भी योजना से लाभ पाने के लिए हमें सबसे पहले आवेदन करना होगा और उसके लिए हमें कुछ सहायक दस्तावेज़ों की आवश्यकता होगी। झारखंड फसल राहत योजना के लिए आवेदन करने के लिए इसी तरह के दस्तावेज की आवश्यकता होगी। जो निम्नलिखित हैं:

  • आधार कार्ड
  • किसान आईडी कार्ड
  • बैंक खाता विवरण
  • निवास प्रमाण पत्र
  • जमीन से जुड़ा दस्तावेज।
  • बैंक खाता विवरण
  • आय प्रमाण पत्र
  • मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फ़ोटो

Jharkhand Fasal Rahat Yojana Online Apply

1 जनवरी 2023 से शुरू होकर पूरे राज्य को झारखंड फसल राहत योजना के तहत कवर किया जाएगा। फसल राहत योजना वेबसाइट ने भी सरकार से किसान पंजीकरण स्वीकार करना शुरू कर दिया है। यदि आप झारखंड फसल राहत योजना में रुचि रखते हैं, तो आप नीचे दिए गए निर्देशों का पालन करके आसानी से आवेदन कर सकते हैं:

  1. सबसे पहले आपको झारखंड राज्य की फसल राहत योजना की वेबसाइट https://jrfry.jharhand.gov.in पर चले जाना है।
  2. उसके बाद होम पेज पर मेनू से “रजिस्टर फार्मर” चुनें।
  3. इसके बाद आपके सामने स्क्रीन पर किसान पंजीकरण फॉर्म पेज दिखाई देगा।
  4. अब, उम्मीदवारों को आवश्यक जानकारी जैसे कि उनका नाम, आधार नंबर, मोबाइल नंबर आदि दर्ज करना होगा।
  5. उसके बाद, पंजीकरण फॉर्म को सबमिट करने के लिए सबमिट बटन पर क्लिक करें।
  6. यदि आप “मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना” के तहत पंजीकृत थे, तो आपका व्यक्तिगत और भूमि विवरण मोबाइल नंबर के ओटीपी के साथ सत्यापन के तुरंत बाद भरा जाएगा।
  • लिंग *
  • Male
  • श्रेणी *
  • किसान का प्रकार *
  • जन्म तिथि * dd-mm-yyyy
  • जिला *
  • प्रखंड *
  • पंचायत *
  • गाँव *
  • बैंक
  • IFSC Code *
  • खाता नंबर *
  • पासवर्ड *
  • पासवर्ड की पुष्टि कीजिये *
  • कैप्चा कोड *

राज्य फसल राहत योजना पंजीकरण फॉर्म पर प्रत्येक प्रविष्टि को सत्यापित करने की आवश्यकता है। आप प्रस्तुत जानकारी को संपादित कर सकते हैं, एक पासवर्ड चुन सकते हैं, और यदि कोई बदलाव करने की आवश्यकता है तो अपडेट बटन पर क्लिक करके पंजीकरण के लिए अपने समझौते की पुष्टि कर सकते हैं।

यदि आपका पंजीकरण सफल रहा, तो आप अपनी 13-अंकीय विशिष्ट पंजीकरण आईडी के साथ अपने पंजीकरण फॉर्म की एक प्रति प्रिंट कर सकते हैं, या आप सीधे आवेदन पृष्ठ पर अपनी जानकारी दर्ज करने के लिए लॉगिन बटन पर क्लिक कर सकते हैं।

निष्कर्ष

झारखंड फसल राहत योजना एक महत्वपूर्ण पहल है जो झारखंड के किसानों को उनकी आर्थिक समस्याओं से निपटने में मदद करती है। यह योजना न केवल किसानों के जीवन में सुधार लाती है, बल्कि प्रदेश की कृषि उत्पादनता और अर्थव्यवस्था में भी सकारात्मक परिवर्तन का साधन बनती है। झारखंड सरकार द्वारा इस पहल के माध्यम से, वे भारतीय कृषि संस्थान को और उनके खेतों को आर्थिक रूप से मजबूत बनाने का संकल्प दिखाते हैं। इससे न केवल प्रदेश की कृषि ऊपज के स्तर में वृद्धि होगी, बल्कि किसानों के जीवन की गुणवत्ता भी सुधारेगी और वे आर्थिक रूप से समृद्ध होंगे।

Leave a Comment